Categories: General

Galti Ki Tujhe Sir Par Bithake | Poem By Kanha Kamboj | The Realistic Dice | Kanha Kamboj Shayari

इस कविता के बारे में :

द रियलिस्टिक डाइस के लिए यह खूबसूरत कविता ‘गलती की तुझे सर पर बिठाके ‘कान्हा कंबोज द्वारा प्रस्तुत की गई है और यह भी उनके द्वारा लिखी गई है जो बहुत सुंदर है।

*****

बात मुझे मत बता क्या बात रही है

रह साथ उसके, साथ जिसके रात रही है 

ज़रा भी ना हिचकिचायी होते हुए बेआबरू,

बता तेरे जिस्म से और कितनों 

की मुलाकात रही है

***

वस्ल की रात बस एक किस्सा 

बनकर रह गई

मेरे हाथ में तेरी यादों की 

हवालात रही है

वक्त के चलते हो जाएगा सब ठीक

अंत भला क्या होगा बुरी जिसकी 

इतनी शुरूवात रही है

***

बदन के निशान बताए गए जख्म पुराने

मोहतरमा कमजोर कहां मेरी 

तनी याददाश्त रही है

गैर के साथ भीगती रही रात भर

बड़ी बेबस वो बरसात रही है

कुछ अश्क बाकी रह गया तेरा मुझमें

वरना कब किसी की इतनी 

कही बर्दाश्त रही है

***

गलती मेरी ये रही तुझे सर पर बैठा लिया

वरना कदमों लायक भी कहां 

तेरी औकात रही है

तेरे इश्क में कर लिया खुद 

को बदनाम इतना

जरा पूछ दुनिया से कैसी कान्हा 

की हैयात रही है

***

सुना है तेरी चाहत में मर गए लोग

यानी बहुत कुछ बड़ा कर गए लोग

सोचा कि देखे तुझे और देख के सोचा ये

तुझे सोचते हुए क्या क्या कर गए लोग

तेरी सोहबत में आने के बाद सुना है

नहीं दोबारा मुड़कर फिर घर गए लोग

तुझसे मोहब्बत में कुछ भी नहीं हासिल।

***

तेरे लिए हद से गुजर गए लोग

तुम छोड़ दो उस अप्सरा की बातें कान्हा

अप्सरा नहीं होती कहकर गये लोग

मेरे लहजे से दब गयी वो बात

तेरे हक में कही थी मैंने जो बात

तेरी एक नहीं से खामोश हो गया मैं

कहने को तो थी मुझ पर सौ बात

***

तू सोच, के बस तुझसे कही है 

मैंने किसी से नहीं कही जो बात

तू किसी से कर मुझे ऐतराज नहीं

ताल्लुक अगर मुझसे रखती हो वो बात।

*****

Recent Posts

Jaan Meri Baat Samajh Lo Andhera Hai | Kanha Kamboj | Poetry | G Talks

इस कविता के बारे में : इस काव्य 'जान मेरी बात समझ लो अँधेरा है'…

2 years ago

Kaun Kehta Hai Ladko Ki Zindagi Main Gum Nai Hota | Amritesh Jha | Poetry | G Talks

Kaun Kehta Hai Ladko Ki Zindagi Main Gum Nai Hota | Amritesh Jha | Poetry…

2 years ago

Kanha Ko Bebas Bna Gyi Wo | Poem By Kanha Kamboj | Trd Poetry

Kanha Ko Bebas Bna Gyi Wo | Poem By Kanha Kamboj | Trd Poetry इस…

2 years ago

Dr. Rahat Indori – Main Aaj Saari Kitaabein Jala Ke Laut Aaya

राहत इंदौरी के बारे में :- राहत कुरैशी, जिसे बाद में राहत इंदौरी के नाम से…

2 years ago

Wo Pagal Mera Intjar Karti Hai | Kanha Kamboj | The Realistic Dice | Kanha Kamboj Shayari

इस कविता के बारे में : द रियलिस्टिक डाइस के लिए यह खूबसूरत कविता 'वो…

2 years ago

Dr. Rahat Indori – Ab Apne Lehje Mein Narmi Bahut Zyada Hai

राहत इंदौरी के बारे में :- राहत कुरैशी, जिसे बाद में राहत इंदौरी के नाम से…

2 years ago