Aaj Wo Bhai Yaad Aata Hai | Goonj Chand | Poetry - Flash Jokes - Latest shayari and funny jokes

Aaj Wo Bhai Yaad Aata Hai | Goonj Chand | Poetry

Aaj Wo Bhai Yaad Aata Hai | Goonj Chand | Poetry
Aaj Wo Bhai Yaad Aata Hai | Goonj Chand | Poetry


इस कविता के बारे में :

इस काव्य 'मेरे आज वो भाई याद आता है' को G Talks के लेबल के तहत 'गूँज चाँद' ने लिखा और प्रस्तुत किया है।

*****

जब भी मुझे कोई डर सताता है 

एक ही चेहरा नज़र आता है

जो रहता था साये की तरह साथ 

मेरे आज वो भाई याद आता है

***

याद है मुझको स्कूल के वो दिन 

जब शैतानिया उसकी होती थी

और टीचर्स हमेशा मुझको ही डाटा 

करते थे गुस्से से लाल जब में 

उसे बोलती थी की रुक अब तेरी 

खैर नहीं आज माँ के हाथो से 

न पिटवाया तो में तेरी बहन नहीं

***

ऐसा सुनते ही अचानक मुझे रोक 

कर हाथो में चॉकलेट लिया

एक बच्चा नज़र आता है

जो रहता था साये की तरह साथ 

मेरे आज वो भाई याद आता है

***

अक्सर जो अपने स्कूल का होमवर्क 

तक मुझसे करवाया करता था

न जाने कब इतना बड़ा हो गया 

की मेरी गलतियों पर मुझे 

समझाया करता था

***

घर से लेकर स्कूल तक मेरे 

साथ चलता था कोई दाल न दे मुझपे 

गलत नज़र इस बात का भी 

पूरा ख्याल रखता था

पर न तो अब वो होमवर्क करवाता है 

***

और न ही मेरे साथ चलता है

कियुँकि खो गया है वो किसी और 

दुनिया में अब तो बस अक्सर चाँद तारो

में ही नज़र आता है जो रहता था 

साये की तरह साथ मेरे 

आज वो भाई याद आता है

*****

सुनिए इस कविता का ऑडियो वर्शन


( Use UC Browser For Better Audio Experience )

*****


... Thank You ...



( Disclaimer: The Orignal Copyright Of this Content Is Belong to the Respective Writer )
                                                                                                                                                                                                              

Post a Comment

0 Comments