Dr. Rahat Indori - Saza Na Deke Adaalat Bigaad Deti Hai - Flash Jokes - Latest shayari and funny jokes

Dr. Rahat Indori - Saza Na Deke Adaalat Bigaad Deti Hai

Dr. Rahat Indori - Saza Na Deke Adaalat Bigaad Deti Hai
Dr. Rahat Indori - Saza Na Deke Adaalat Bigaad Deti Hai

राहत इंदौरी के बारे में :-

राहत कुरैशी, जिसे बाद में राहत इंदौरी के नाम से जाना जाता है, का जन्म 1 जनवरी 1950 को इंदौर में रफतुल्लाह कुरैशी, कपड़ा मिल मजदूर और उनकी पत्नी मकबूल उन निसा बेगम के यहाँ हुआ था। वह उनका चौथा बच्चा था। 

उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा नूतन स्कूल इंदौर से की जहाँ से उन्होंने अपनी हायर सेकंडरी पूरी की। उन्होंने 1973 में इस्लामिया करीमिया कॉलेज, 

इंदौर से स्नातक की पढ़ाई पूरी की और 1975 में बरकतउल्ला विश्वविद्यालय भोपाल (मध्य प्रदेश) से उर्दू साहित्य में एमए पास किया। रहत को पीएच.डी. उर्दू साहित्य में उर्दू मुख्य मुशायरा शीर्षक से 1985 में मध्य प्रदेश के भोज विश्वविद्यालय से।

..........

---------------------------------------
Nayi hawaaon ki sohbat 

bigaad deti hai

Kabutaron ko khuli chhat 

bigaad deti hai

------

Jo jurm karte hain itne 

bure nahin hote

Saza na deke adaalat 

bigaad deti hai

------

Ye chalti phirti dukaano ki 

tarah hote hain

Naye ameeron ko daulat 

bigaad deti hai

------

Hamaare peer Taqi Meer ne 

kaha tha kabhi

Miyaan ye aashiqui izzat 

bigaad deti hai
---------------------------------------

..........

---------------------------------------
नयी हवाओं की सोहबत बिगाड़ देती है

कबूतरों को खुली छत बिगाड़ देती है

------

जो जुर्म करते हैं इतने बुरे नहीं होते

सजा न देके अदालत बिगाड़ देती है

------

ये चलती फिरती दुकानों की तरह होते हैं

नए अमीरों को दौलत बिगाड़ देती है

------

हमारे पीर ताकि मेरे ने कहा था कभी

मियाँ ये आशिकी इज़्ज़त बिगाड़ देती है
---------------------------------------

... Thank You ...





( Disclaimer: The Orignal Copyright Of this Content Is Belong to the Respective Writer )
                                                                                                                                                                                                              

Post a Comment

0 Comments