Shiv Khera Quotes In Hindi | Biography - Flash Jokes - Latest shayari and funny jokes

Shiv Khera Quotes In Hindi | Biography

Shiv Khera Quotes In Hindi | Biography
Shiv Khera Quotes In Hindi | Biography

शिव खेरा के बारे में:-

शिव खेरा स्वयं सहायता पुस्तकों और एक कार्यकर्ता के भारतीय लेखक हैं। उन्होंने भारत में जाति-आधारित आरक्षण के खिलाफ एक आंदोलन शुरू किया, कंट्री फ़र्स्ट फ़ाउंडेशन नामक एक संगठन की स्थापना की, 

और भारतीय राष्ट्रीय सामंत पार्टी की शुरुआत की। 2004 में, वह भारत के आम चुनाव में दक्षिण दिल्ली निर्वाचन क्षेत्र के लिए एक स्वतंत्र उम्मीदवार के रूप में बोली में हार गए। उन्होंने भारतीय सुप्रीम कोर्ट में कई जनहित के मुकदमे भी दायर किए और देश के 2009 के आम चुनाव में असफल रहे।

..........

--------------------------------------
जीतने वाले कोई अलग काम नहीं करते, 

वह हर काम को अलग ढंग से करते हैं.
---------------------------------------

---------------------------------------
गुब्बारा अपने रंग की वजह से नहीं बल्कि अपने अंदर 

भरे चीज की वजह से उड़ता है. हमारी जिंदगी में भी 

यही उसूल लागू होता है. अहम् चीज हमारी अंदरूनी 

सख्शियत है. हमारी अंदरूनी शक्शियत की वजह से 

हमारा जो नजरिया बनता है, वही हमें ऊपर उठाता है.
---------------------------------------

---------------------------------------
जिन्हें मौके की पहचान नहीं होती उन्हें 

मोके का खटखटाना शोरे लगता है.
---------------------------------------

---------------------------------------
मौका आता है तो लोग उसकी अहमियत नहीं पहचानते. 

जब मौका जाने लगता है तो उसके पीछे भागने लगते हैं.
---------------------------------------

---------------------------------------
कोई मौका दोबार नहीं खटखटाता. 

दूसरा मौका पहले वाले मौके से बेहतर या बत्तर हो सकता है, 

पर वह ठीक पहले वाले मौके जैसा नहीं हो सकता. 

गलत वक्त पर लिया गया सही फैसला भी गलत बन जाता है.
---------------------------------------

---------------------------------------
जिस तरह किसी भव्य इमारत के टिके 

रहने के लिए उसकी नीव मजबूत होनी चाहियें, 

उसी तरह कामियाबी में टिके रहने के लिए 

भी मजबूत बुनियाद की जरूरत होती है, 

और कामियाबी की बुनियाद होती है नजरिया.
---------------------------------------

---------------------------------------
शिक्षा ऐसी होनी चाहियें जो हमें केवल रोजी-रोटी 

कमाना नहीं बल्कि जीने का तरीका भी सिखाये.
---------------------------------------

---------------------------------------
हमको एक तोला सोना निकालने के लिए 

कई टन मिट्टी हटानी पड़ती है. लेकिन खुदाई करते 

वक्त हमारा ध्यान मिट्टी पर नहीं बल्कि सोने पर रहता है.
---------------------------------------

---------------------------------------
अपने को बेहतर बनाने में इतना बक्त लगायें कि 

दूसरों की आलोचना करने के लिए हमारे पास 

वक्त ही न बचे. इतने बड़े बने कि चिंता छु न सके 

और इतने अच्छे बने कि गुस्सा आये ही नहीं.
---------------------------------------

---------------------------------------
अगर हम अपने नज़रिये को सकारात्मक बनाना चाहते हैं 

तो टालमटोल की आदत छोड़ें और  

तुरंत काम करो’ पर अमल करना सीखें.
---------------------------------------

---------------------------------------
हमें अक्सर बताया जाता है कि ज्ञान शक्ति है. 

लेकिन यह असलियत नहीं है. ज्ञान तो महज जानकारी है. 

ज्ञान में शक्ति बनने की क्षमता है, और यह तभी शक्ति 

बनता है जब इसका इस्तेमाल किया जाता है.
---------------------------------------

---------------------------------------
अगर किसी इंसान में यह 5 खूबियाँ हैं 

तो वह स्कूली शिक्षा हासिल किये बिना कामियाब 

हो सकता है, और वह हैं 

– 1 चरित्र 2 प्रतिबद्धता 3 दृण विश्वाश 4 तहजीब 5 साहस
---------------------------------------

---------------------------------------
सही नजरिया की बिना 

कामियाबी व्यर्थ होती है.
---------------------------------------

---------------------------------------
अगर कोई मूर्खता की बजाए समझदारी, 

बुराई की बजाय अच्छाई और असश्यता की बजाय 

सदगुण को चुनता है, तो ऐसे आदमी के पास स्कूली 

डिग्रियां न होने के बाबजूत, उसे शिक्षित माना जाना चाहियें.
---------------------------------------

---------------------------------------
जीतने वाला हमेशा समाधान का हिस्सा होता है 

और हारने वाला हमेशा समस्या का हिस्सा होता है.
---------------------------------------

---------------------------------------
कामियाबी का यह मतलब नहीं है 

कि हर इंसान आपको पसंद करे. ऐसे लोग भी हैं 

जिनसे मान्यता पाना मैं खुद नहीं चाहूंगा. मूर्खों की 

आलोचना को मैं घिनौने चरित्र के लोगों की 

तारीफ से बेहतर मानता हूँ.
---------------------------------------

---------------------------------------
सफलता और प्रसन्नता का चोली-दामन का साथ है. 

सफलता का मतलब यह है कि हम जो चाहें उसे पा लें, 

और प्रान्नता का मतलब है कि हम जो चाहें उसे चाहें.
---------------------------------------

---------------------------------------
सफल लोग अपने काम से  Competition करते हैं. 

वे खुद का रिकॉर्ड बेहतर बनाते हैं और 

लगातार सुधार लाते रहते हैं.
---------------------------------------

---------------------------------------
सफलता इस बात से नहीं मापी जाती कि 

हमने जिंदगी में कितनी ऊँचाई हाँसिल की है, 

बल्कि इस बात से मापी जाती है कि हम कितनी 

बार गिर कर खड़े हुए हैं. सफलता का आंकलन गिर कर 

उठने की इस क्षमता से ही किया जाता है.
---------------------------------------

---------------------------------------
सफल लोग महान काम नहीं करते, 

वे छोटे – छोटे कामों को महान ढंग से करते हैं.
---------------------------------------

---------------------------------------
हर ठोकर के लगने के बाद खुद से पूंछे कि 

हमने इस तजुर्वे से क्या सीखा  तभी हम रास्ते के 

रोड़ो को कामियाबी की सीढ़ी बना पाएंगे.
---------------------------------------

---------------------------------------
सफल लोग दो तरह के होते हैं – 

पहले जो करते तो हैं पर सोचते नहीं ; 

दूसरे जो सोचते तो हैं लेकिन कुछ करते नहीं. 

सोचने की क्षमता का इस्तेमाल किये बिना जिंदगी 

गुजारना वैसा ही है, जैसे की बिना निशाना 

लगाये गोली चलना।
---------------------------------------

---------------------------------------
असफल हो जाना कोई अपराध नहीं है 

पर कोशिश न करना यकीनन अपराध हैं.
---------------------------------------

---------------------------------------
जब हालत बिगड़ जाते हैं तो नकारात्मक लोग 

एक दूसरे पर इल्ज़ाम लगाने लगते हैं.
---------------------------------------

---------------------------------------
हम ज्यों ज्यों उपलब्धियां हांसिल करेंगे, 

हमारी आलोचना भी बढ़ती जायगी।
---------------------------------------

---------------------------------------
हम अपनी खोज खुद नहीं करते, बल्कि खुद का 

निर्माण वैसा करते हैं जैसा हम बनना चाहते हैं.
---------------------------------------

---------------------------------------
विपरीत परिस्थितियों में कुछ लोग रिकॉर्ड 

बनाते हैं, तो कुछ लोग टूट जाते हैं.
---------------------------------------

---------------------------------------
खतरा न उठाने वाला आदमी कोई गलती भी 

नहीं करता लेकिन कोशिश न करना, 

कोशिश करके असफल होने से भी बड़ी गलती है.
---------------------------------------

---------------------------------------
खतरे उठाइये पर जुआ मत खेलिये, 

खतरे उठाने वाले आदमी अपनी ऑंखें खुली करके 

आगे बढ़ते हैं, जबकि जुआ खेलने वाले अँधेरे में तीर चलाते हैं.
---------------------------------------

---------------------------------------
ज्यादातर लोग जानकारी या प्रतिभा की 

कमी की वजह से नहीं, बल्कि कोशिश बंद 

करने की वजह से असफल होते हैं.
---------------------------------------

---------------------------------------
सीमित सोच के सहारे आप कोई बड़ा 

लक्ष्य कायम नहीं कर सकते.
---------------------------------------

---------------------------------------
दुनियाँ में तीन तरह के लोग होते हैं –

यह लोग काम को अंजाम देते हैं.

यह लोग काम को अंजाम तक पहुँचते हुए देखते रहते हैं.

यह लोग अचरच करते हैं कि वह काम अंजाम तक कैसे पहुंचा.
---------------------------------------

---------------------------------------
सफलता और असफलता के बीच उतना ही अंतर है 

जितना की सही और लगभग सही के बीच होता है.
---------------------------------------

---------------------------------------
किसी क्षेत्र में सफलता दिलाने वाली 

बढ़त तैयारी से ही मिलती है.
---------------------------------------

---------------------------------------
बाधा जितनी बड़ी होगी, 

अवसर भी उतना ही बड़ा होगा.
---------------------------------------

---------------------------------------
अनुशासन और पछतावा दोनों ही दुखदायक हैं. 

ज्यादातर लोगों को इन दोनों में से किसी एक 

को ही चुनना होता है. जरा सोचियें इन दोनों में 

से कौन ज्यादा तकलीफ में हैं.
---------------------------------------

---------------------------------------
अगर हम असफल होना चाहते हैं 

तो भाग्य में विश्वाश कीजिये, और सफल होना चाहते हैं 

तो वजह और नतीजों के सिद्धांत में विश्वाश कीजिए।
---------------------------------------

---------------------------------------
आत्मसम्मान एक ऐसा अहसास है, 

जो अच्छाई को समझने और उस पर 

अमल करने में पैदा होता है.
---------------------------------------

---------------------------------------
हम असफल व्यक्ति तभी माने जायेंगे, 

जब हम मैदान छोड़ दें.
---------------------------------------

---------------------------------------
अच्छे माँ –बाप 

अनुशासन लागू करने से नहीं हिचकते, 

भले ही बच्चे कुछ देर के लिए उन्हें नापसंद करें.
---------------------------------------

---------------------------------------
कामियाब लोग कठिनाइयों के बाबजूत 

 सफलता हांसिल करते हैं. 

न कि तब जब कठिनाई नहीं होती.
---------------------------------------

---------------------------------------
सुनना ही एक ताकत है, 

लेकिन किसी इंसान में यह खूबी जरूरत से 

ज्यादा बढ़ने पर ज्यादा सुनना और न 

बोलना उसकी कमजोरी बन जाती है.
---------------------------------------

---------------------------------------
अच्छाई वापसी का रास्ता ढूंढ लेती है ; 

यह प्रकृति का बुनियादी नियम है. 

अच्छा काम करते समय फल पाने की इच्छा 

रखना जरूरी नहीं है. फल तो कुदरती तोर 

पर अपने आप मिलता है.
---------------------------------------

---------------------------------------
क्योंकि कुदरत खाली जगह को पसंद नहीं करती, 

इसलिए वह खाली दिमाग को अहंकार से भर देती है.
---------------------------------------

---------------------------------------
गुस्सा इंसान को मुश्किल में डालता है, 

और अहंकार उसे आगे बढ़ने से रोकता है.
---------------------------------------

---------------------------------------
जिस इंसान में साहस की कमी होती है, 

वह तकलीफ में आपका साथ अवश्य छोड़ देगा.
---------------------------------------

---------------------------------------
झूँठी प्रशंसा स्वीकार करने से, सच्ची 

आलोचना स्वीकार करना ज्यादा आसान है.
---------------------------------------

---------------------------------------
अगर कोई जिंदगी में बड़ी चीजें हांसिल करना चाहता है 

तो उसे पूर्णतया कुशल और समझदार बनना पड़ेगा। 

पूर्णतया कुशलता और समझदारी का मतलब है  

छोटी छोटी बातों और बहस में न उलझना.
---------------------------------------

---------------------------------------
किसी अज्ञानी को बहस में हराना नामुमकिन है, 

उसके तर्क कमज़ोर होते हैं, पर लब्ज़ तीखे और कठोर.
---------------------------------------

---------------------------------------
अच्छी आदतों को अपनाना मुश्किल है, 

लेकिन उसके साथ जीना आसान है. 

बुरी आदतों को अपनाना आसान है 

पर उसके साथ जीना मुश्किल है.
---------------------------------------

---------------------------------------
लक्ष्य वे सपने हैं, जिनके साथ समय सीमा और 

कार्य योजना जुडी होती हैं. लक्ष्य मूल्यवान या 

मूल्यहीन हो सकता है. सपनो को असलियत का 

रूप चाहत नहीं बल्कि लगन देती है.
---------------------------------------



... Thank You ...
                                                                                                                                                                                                              

Post a Comment

0 Comments