Ramayan Quotes In Hindi - Flash Jokes - Latest shayari and funny jokes

Ramayan Quotes In Hindi

Ramayan Quotes In Hindi
Ramayan Quotes In Hindi

रामायण के बारे में:-

रामायण प्राचीन भारत के दो प्रमुख संस्कृत महाकाव्यों में से एक है, दूसरा महाभारत है। महाभारत के साथ, यह हिंदू इतिहास बनाता है।

परंपरागत रूप से, महर्षि वाल्मीकि को लिखे गए महाकाव्य, कोसल साम्राज्य के प्रसिद्ध राजकुमार राम के जीवन का वर्णन करते हैं। यह अपने सौतेले माता कैकेयी के अनुरोध पर अपने पिता राजा दशरथ द्वारा वन में अपने चौदह वर्ष के वनवास का पालन करता है। 

उनकी पत्नी सीता और भाई लक्ष्मण के साथ भारत के जंगलों में उनकी यात्रा, लंका के महान राजा रावण द्वारा उनकी पत्नी का अपहरण, जिसके परिणामस्वरूप उनके साथ युद्ध हुआ और राम की ताजपोशी के लिए अयोध्या लौटना पड़ा। यह महाकाव्य की परिणति है। यह सबसे पवित्र पुस्तक है और हर साल लाखों लोगों द्वारा पढ़ी जाती है।

महाकाव्य की ऐतिहासिक वृद्धि और संरचनागत परतों को जानने के लिए कई प्रयास किए गए हैं; 7 वीं से 4 वीं शताब्दी ईसा पूर्व तक पाठ श्रेणी के शुरुआती चरण के लिए विभिन्न हालिया विद्वानों के अनुमान बाद के चरणों के साथ तीसरी शताब्दी सीई तक फैले हुए हैं।

रामायण विश्व साहित्य के सबसे बड़े प्राचीन महाकाव्यों में से एक है। इसमें लगभग 24,000 छंद (ज्यादातर श्लोक / अनुष्ठु मीटर में स्थापित) हैं, जो छः कांडों (आदि (काण्ड), कांड, अयोध्या कांड, अरण्य कांड, किष्किंधा कांड, सुंदर कांड, लंका कांड) और लगभग 500 सर्गों (अध्यायों) में विभाजित हैं। 

उत्तर कांड जिसे आज भी रामायण में पढ़ा जाता है, वह काकभुशुंडी रक्षक सम्वेद का एक हिस्सा है और मूल वाल्मीकि रामायण का हिस्सा नहीं है। हिंदू परंपरा में, इसे आदि-काव्य (पहली कविता) माना जाता है। इसमें आदर्श पिता, आदर्श सेवक, आदर्श भाई, आदर्श पति और आदर्श राजा जैसे आदर्श चरित्रों को चित्रित करते हुए रिश्तों के कर्तव्यों को दर्शाया गया है। 

बाद में संस्कृत कविता और हिंदू जीवन और संस्कृति पर रामायण का महत्वपूर्ण प्रभाव था। महाभारत की तरह, रामायण प्राचीन हिंदू ऋषियों की शिक्षाओं को कथात्मक रूपक में प्रस्तुत करता है, दार्शनिक और नैतिक तत्वों को प्रतिपादित करता है। 

राम, सीता, लक्ष्मण, भरत, हनुमान, और रावण के चरित्र भारत, नेपाल, श्रीलंका और दक्षिण-पूर्व एशियाई देशों थाईलैंड, कंबोडिया, मलेशिया और इंडोनेशिया की सांस्कृतिक चेतना के सभी मौलिक हैं। ।


बौद्ध, सिख और जैन रूपांतरों के अलावा भारतीय भाषाओं में रामायण के कई संस्करण हैं। कहानी के कंबोडियन, इंडोनेशियाई, फिलिपिनो, थाई, लाओ, बर्मी और मलेशियाई संस्करण भी हैं।

..........

---------------------------------------
दुःख व्यक्ति का साहस खत्म कर देता है। 

वह व्यक्ति की सीख खत्म कर देता है। 

हर किसी का सबकुछ नष्ट कर देता है। 

दुःख से बड़ा कोई शत्रु नहीं है।
---------------------------------------

---------------------------------------
बच्चों के लिए उस कर्ज को चुकाना मुश्किल है 

जो उनके माता-पिता ने उन्हें बड़ा करने के लिए किया है।
---------------------------------------

---------------------------------------
यदि जीवित रहेंगे तो सुख और आनंद 

की प्राप्ति कभी न कभी अवश्य होगी।
---------------------------------------

---------------------------------------
सर्वनाश के प्रमुख 3 कारण इस प्रकार हैं : 

दूसरों के धन की चोरी, 

दूसरे की पत्नी पर बुरी नजर और 

अपने ही मित्रों के चरित्र व अखंडता पर शक।
---------------------------------------

---------------------------------------
उदास न होना, कुंठित न होना अथवा 

मन को टूटने न देना ही सुख 

और समृद्धि का आधार है।
---------------------------------------

---------------------------------------
किसी भी व्यक्ति की वास्तविक स्थिति 

का ज्ञान उसके आचरण से होता हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
जो किसी से धन व सामग्री की सहायता 

लेने के पश्चात अपने दिए हुए वचन का पालन नहीं करता, 

तो वह संसार में सबसे अधिक बुरा माना जाता हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
वीर व बलवान पुरुष 

क्रोधित नहीं होते।
---------------------------------------

---------------------------------------
धन, सुख, सम्पति व समृद्धि सभी 

धर्म के मार्ग में ही प्राप्त होते हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
अत्यधिक लंबे समय की दूरी या 

ओझलपन से प्रेम व स्नेह में कमी आ जाती है।
---------------------------------------

---------------------------------------
चरित्रहीन व्यक्ति की मित्रता उस पानी की 

बूंद की भांति होती है जो कमल फूल की पत्ती 

पर होते हुए भी उस पे चिपक नहीं सकता।
---------------------------------------

---------------------------------------
पिता, गुरु व ज्येष्ठ भ्राता, 

जो धर्म पालन का ज्ञान देते हैं, 

वे सभी पिता सामान होते हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
जो व्यक्ति निरंतर शोक करते रहते हैं, 

उन्हें जीवन में कभी सुख नहीं मिलता।
---------------------------------------

---------------------------------------
मैं रिश्तेदारों के आचरण से भली-भाँति परिचित हूँ। 

वे अपने रिश्तेदारों की मुसीबत में आनंदित होते हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
अपने जीवन का अंत कर देने में कोई अच्छाई नहीं होती, 

सुख और आनंद का रास्ता जीवन से ही निकलता है।
---------------------------------------

---------------------------------------
दया, सदभावना व मानवीयता 

महा पुण्यकारी गुण हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
बड़े कहते हैं कि विद्वानों व बुद्धिमानों 

से परामर्श ही विजय का आधार होता हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
उत्साह हीन, निर्बल व दुःख में डूबा हुआ 

व्यक्ति कोई अच्छा कार्य नहीं कर सकता। 

अतः वह धीरे धीरे दुःख की गहराइयों में डूब जाता हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
बिन पानी के बादलों के गरजने से 

बरसात नहीं होती। सच्चे वीर और पहलवान फालतू में 

नहीं दहाड़ते, वे युद्ध में अपना शौर्य दिखाते हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
जो अपनों को त्याग कर दुश्मनों के शिविर 

में चला जाता हैं, उसी के पुराने शिविर के अपने 

ही साथी दुश्मन को मारने के पश्चात उसे भी मार डालते हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
सत्यवादी व्यक्ति कभी झूठे वचन नहीं देते। 

दिए हुए वचन का पालन करना ही 

उनकी महानता का चिंह होता है।
---------------------------------------

---------------------------------------
पतिव्रता स्त्री के आँसू धरती पर बेकार नहीं गिरते, 

वे उनका विनाश करते हैं जिनके 

कारणवश वे आँखों से बहार निकलें।
---------------------------------------

---------------------------------------
धर्म किसी देश के सभी लोगों को 

एक जुट रखने में समर्थ होता हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
जिनके पास धर्म का ज्ञान हैं, 

वे सभी कहते हैं कि सत्य ही परम धर्म हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
अभिमानी व्यक्ति, चाहे वह आपका गुरु, 

पिता व उम्र अथवा ज्ञान में बड़ा भी हो, 

उसे सही दिशा दिखाना अति आवश्यक होता हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
दुःख ऐसी वस्तु हैं जो ज्ञान और 

बल दोनों का विनाशक होता है। 

दुःख से बड़ा कोई शत्रु नहीं होता।
---------------------------------------

---------------------------------------
झूठे व्यक्ति से लोग उसी प्रकार 

डरते हैं जैसे जहरीले साँप से।
---------------------------------------

---------------------------------------
धर्म सत्य में ही समाया हुआ हैं और 

ये संसार सत्य द्वारा ही चल रहा है।
---------------------------------------

---------------------------------------
चाहे चंद्रमा की सुंदरता चली जाए, 

हिमालय हिम रहित हो जाये, 

और सागर जल रहित हो जाए, 

तो भी मैं अपने पिता को दिया हुआ वचन नहीं तोडूंगा।
---------------------------------------

---------------------------------------
उत्साह में अपार शक्ति होती हैं। 

उत्साहित व्यक्ति के लिए कुछ भी असम्भव नहीं होता।
---------------------------------------

---------------------------------------
जान बुझ के मौत के मुंह में जाने 

वाले को कोई भी अच्छी राय न तो 

सुनाई देती हैं और न ही भाती है।
---------------------------------------

---------------------------------------
दुःख हो या सुख, 

मित्र ही मित्र के काम आता है।
---------------------------------------

---------------------------------------
मानव गलती कर सकता हैं। 

ऐसा कोई भी प्राणी नहीं जिसने 

कभी कोई गलती न की हो।
---------------------------------------

---------------------------------------
दूसरों की संपत्ति को चोरी करना, 

किसी अन्य की पत्नी की लालसा करना 

और मित्रों की ईमानदारी और चरित्र पर शक 

करना-ये तीनों व्यक्ति को विनाश तक ले जाते हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
बोलने से पहले शब्द मनुष्य के वश में होते हैं, 

परन्तु बोलने के बाद मनुष्य शब्दों के वश में हो जाता है।
---------------------------------------

---------------------------------------
बोले गए शब्द ही ऐसी चीज हैं, 

जिसकी वजह से इंसान, 

या तो दिल में उतर जाता है 

या फिर दिल से उतर जाता है।
---------------------------------------

---------------------------------------
अपनी बातों को हमेशा ध्यानपूर्वक कहे, 

क्योंकि हम तो कहकर भूल जाते हैं, 

लेकिन लोग उसे याद रखते हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
नदी में गिरने से कभी भी किसी 

की मौत नहीं होती है। मौत तो तब होती है 

जब उसे तैरना नहीं आता है।
---------------------------------------

---------------------------------------
परिस्थितियाँ हमारे लिए समस्या नहीं बनती हैं 

समस्या तो तब बनती है जब हमें 

परिस्थितियों से निपटना नहीं आता।
---------------------------------------

---------------------------------------
जो व्यक्ति हमेशा रोना रोते हैं, 

उन्हें जीवन में कभी सुख नहीं मिलता।
---------------------------------------

---------------------------------------
अपने जीवन का अंत कर देने में 

कोई अच्छाई नहीं होती, सुख और आनंद का 

रास्ता जीवन से ही निकलता है।
---------------------------------------

---------------------------------------
जो पाप तुम कर रहे हो, 

उसका बंटबारा नहीं होगा।
---------------------------------------

---------------------------------------
संत दूसरों को दुःख से बचाने 

के लिए कष्ट सहते हैं। दुष्ट लोग दूसरों को 

दुःख में डालने के लिए हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
जननी और जन्मभूमि 

स्वर्ग से भी बढकर है।
---------------------------------------

---------------------------------------
मित्रता या शत्रुता बराबर 

वालों से करनी चाहिए।
---------------------------------------

---------------------------------------
ऐसा विचार करके दुखी न हों 

कि विधाता का लिखा हुआ नहीं मिट सकता।
---------------------------------------

---------------------------------------
राजा को सदैव प्रजा का 

ध्यान रखना चाहिए।
---------------------------------------

---------------------------------------
आपसी फूट मनुष्य 

को नष्ट कर देती है।
---------------------------------------

---------------------------------------
सहयोग और समन्वय 

की सदैव जीत होती है।
---------------------------------------

---------------------------------------
राजा को आदर्श व सच्चरित होना 

चाहिए क्योंकि वह प्रजापालक कहलाता है।
---------------------------------------

---------------------------------------
संतोष नंदन वन है तथा शांति कामधेनु है। 

इस पर विचार करो और शांति के लिए श्रम करो।
---------------------------------------

---------------------------------------
ऐसे व्यक्ति विरले हैं, जो विपत्ति का 

सामना करते समय हताश नहीं होते 

या भ्रम से आछन्न नहीं होते।
---------------------------------------

---------------------------------------
महत्वाकांक्षा से युक्त मन 

सदैव रिक्त रहता है।
---------------------------------------

---------------------------------------
ऐसा कोई व्यक्ति अब तक नहीं जमा,

जो वृद्धावस्था को जीत सका हो।
---------------------------------------

---------------------------------------
जो यौवन विनय से विभूषित तथा 

कृपालुता जैसे गुणों से प्रोज्जवल है, 

वही यौवन सुंदर है।
---------------------------------------

---------------------------------------
अच्छे लोगों की संगति में बुरे से बुरा 

मनुष्य भी सही आचरण करने लगता है।
---------------------------------------

---------------------------------------
नीच की नम्रता अत्यंत दुखदायी है, 

अंकुश, धनुष, सांप और 

बिल्ली झुककर वार करते हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
संसार में ऐसे लोग थोड़े ही होते हैं, 

जो कठोर किंतु हित की बात कहने वाले होते है।
---------------------------------------

---------------------------------------
इस दुनिया में दुर्लभ कुछ भी नहीं है, 

अगर उत्साह का साथ न छोड़ा जाए।
---------------------------------------

---------------------------------------
असत्य के समान पातक पुंज नहीं है। 

समस्त सत्य कर्मों का आधार सत्य ही है।
---------------------------------------

---------------------------------------
माता-पिता की सेवा और उनकी आज्ञा का 

पालन जैसा दूसरा धर्म कोई भी नहीं है।
---------------------------------------

---------------------------------------
प्रियजनों से भी मोहवश अत्यधिक 

प्रेम करने से यश चला जाता है।
---------------------------------------

---------------------------------------
दुख और विपदा जीवन के दो ऐसे मेहमान हैं, 

जो बिना निमंत्रण के ही आते हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
दुख और विपदा जीवन के दो ऐसे मेहमान हैं, 

जो बिना निमंत्रण के ही आते हैं।
---------------------------------------

---------------------------------------
किसी भी काम को अपने सौ प्रतिशत 

सामर्थ्य के साथ करो क्योंकि हम जो आज करते हैं 

उसी का फल हमें बाद में मिलता है।
---------------------------------------

---------------------------------------
एक रचनात्मक व्यक्ति सफलता की 

व्याप्ति से प्रेरित होता है 

न कि किसी दुसरे की हार से।
---------------------------------------

---------------------------------------
जहाँ हो वहीं से शुरुआत करो, 

जो तुम्हारे पास है उसी का उपयोग करो 

और जो तुम कर सकते हो वही करो।
---------------------------------------

---------------------------------------
समस्या अंत की तरफ इशारा 

नहीं करती बल्कि रास्ता दिखाती है।
---------------------------------------

---------------------------------------
अपनी आँखों को हमेशा आसमान की 

तरफ रखो और अपने पैरो को हमेशा जमीन पर।
---------------------------------------

---------------------------------------
नए सपने देखने अथवा नए लक्ष्य 

बनाने की कोई उम्र नहीं होती।
---------------------------------------

---------------------------------------
इससे फर्क नहीं पड़ता कि आप कितने धीरे 

चलते हो जब तक कि आप रुक नहीं जाते।
---------------------------------------

---------------------------------------
कभी भी अपने रहस्यों को किसी और को न बताएं, 

आपकी यह आदत आपको बर्बाद कर सकती है।
---------------------------------------

---------------------------------------
अपने घर को छोड़ कर और किसी के घर 

में रहना किसी भी पीड़ा से ज्यादा कष्टदायी है।
---------------------------------------

---------------------------------------
जब भी कोई भय आपके नजदीक आए 

तब आपको उस पर आक्रमण कर उसे 

नष्ट कर देना चाहिए।
---------------------------------------

---------------------------------------
भगवान मूर्तियों में नहीं है, 

आपकी अनुभूति ही आपका ईश्वर 

और आपकी आत्मा ही मंदिर है।
---------------------------------------

---------------------------------------
अगर कोई व्यक्ति कमजोर है 

तो उसे हमेशा वह ताकतवर है 

ऐसा ही प्रदर्शित करना चाहिए।
---------------------------------------

---------------------------------------
दोस्तों की परीक्षा संकट में होती है 

और जीवनसाथी की परीक्षा जब हमारा 

सभी धन नष्ट होता है तब होती है।
---------------------------------------


... Thank You ...
                                                                                                                                                                                                                                          

Post a Comment

0 Comments