Woh Mera Naam Likhti Hai Kalaai Par | Rajat Sood | Social House Poetry - Flash Jokes - Latest shayari and funny jokes

Woh Mera Naam Likhti Hai Kalaai Par | Rajat Sood | Social House Poetry

Woh Mera Naam Likhti Hai Kalaai Par | Rajat Sood | Social House Poetry

इस कविता के बारे में :

इस काव्य 'वो मेरा नाम लिखती हैं कलाई पर' को Social House के लेबल के तहत रजत सूद ने लिखा और प्रस्तुत किया है।

*****

दूध फिसल ही जाता है मलाई पर

वो मेरा नाम लिखती हैं कलाई पर

वो लबों से मीठी चासनी नहीं है कहीं

मैं पूछने तक गया था हलवाई तक

***

उन कंधों पर बाल मेरे नहीं मिलेंगे

वो खास ध्यान देती है सफाई पर

दूध फिसल ही जाता है मलाई पर

***

दाढ़ी बड़ी हो तो करीब हो तो मत आना

दाढ़ी झट पहुच जाती है नाई पर

दूध फिसल ही जाता है मलाई पर

***

शाम होते ही वो अपने घर चल गयी

जान कर खुशबु छोड़ गयी रज़ाई पर

दूध फिसल ही जाता है मलाई पर

***

रज़ाई तो तुम बहुत याद आते हो

उसे हसी आती है इस सच्चाई पर

दूध फिसल ही जाता है मलाई पर

***

प्यार भरा मैसेज तैयार था किया

गलत सेंड हो गया उसके भाई पर

दूध फिसल ही जाता है मलाई पर

***

भले लोग सभी से प्यार करते हैं

किसी को भरोसा कहा भलाई पर

दूध फिसल ही जाता है मलाई पर

वो मेरा नाम लिखती हैं कलाई पर

*****


सुनिए इस कविता का ऑडियो वर्शन


( Use UC Browser For Better Audio Experience )

*****


... Thank You ...



( Disclaimer: The Orignal Copyright Of this Content Is Belong to the Respective Writer )
                                                                                                                                                                                                                                                                                                  

Post a Comment

0 Comments