Dr. Rahat Indori - Safedposh Uthe Kaayein Kaayein Karne Lage - Flash Jokes - Latest shayari and funny jokes

Dr. Rahat Indori - Safedposh Uthe Kaayein Kaayein Karne Lage

Dr. Rahat Indori - Safedposh Uthe Kaayein Kaayein Karne Lage
Dr. Rahat Indori - Safedposh Uthe Kaayein Kaayein Karne Lage

राहत इंदौरी के बारे में :-

राहत कुरैशी, जिसे बाद में राहत इंदौरी के नाम से जाना जाता है, का जन्म 1 जनवरी 1950 को इंदौर में रफतुल्लाह कुरैशी, कपड़ा मिल मजदूर और उनकी पत्नी मकबूल उन निसा बेगम के यहाँ हुआ था। वह उनका चौथा बच्चा था। 

उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा नूतन स्कूल इंदौर से की जहाँ से उन्होंने अपनी हायर सेकंडरी पूरी की। उन्होंने 1973 में इस्लामिया करीमिया कॉलेज, 

इंदौर से स्नातक की पढ़ाई पूरी की और 1975 में बरकतउल्ला विश्वविद्यालय भोपाल (मध्य प्रदेश) से उर्दू साहित्य में एमए पास किया। रहत को पीएच.डी. उर्दू साहित्य में उर्दू मुख्य मुशायरा शीर्षक से 1985 में मध्य प्रदेश के भोज विश्वविद्यालय से।

..........

---------------------------------------
Andhere chaaron taraf saaye 

saaye karne lage

Charaag haath utha kar duayein 

karne lage

------

Saleeka jinko sikhaya tha 

humne chalne ka

Wo log aaj humein daaye-baaye 

karne lage

------

Lahu luhaan pada tha zamin 

par ek suraj

Parinde apne paron se hawaayein 

karne lage

------

Zamin par aa gaye aankhon se 

tootkar aansu

Buri khabar hai farishte 

khatayein karne lage

------

Tarakki kar gaye beemariyon 

ke saudagar

Ye sab mareez hain jo ab 

dawaayein karne lage

------

Ajeeb rang tha majlis ka 

khoob mehfil thi

Safedposh uthe kaayein kaayein 

karne lage
---------------------------------------

..........

---------------------------------------
अँधेरे चारों तरफ साये साये करने लगे

चराग हाथ उठा कर दुआएं करने लगे

------

सलीका जिनको सिखाया था हमने चलने का

वो लोग आज हमें दाए-बाए करने लगे

------

लहू लुहान पड़ा था ज़मीं पर एक सूरज

परिंदे अपने पैरों से हवाएं करने लगे

------

ज़मीं पर आ गए आँखों से टूटकर आंसू

बुरी खबर है फ़रिश्ते खटाएं करने लगे

------

तरक्की कर गए बीमारियों के सौदागर

ये सब मरीज़ हैं जो अब दवाएं करने लगे

------

अजीब रंग था मजलिस का खूब महफ़िल थी

सफेदपोश उठे कायें कायें करने लगे
---------------------------------------

... Thank You ...



( Disclaimer: The Orignal Copyright Of this Content Is Belong to the Respective Writer )
                                                                                                                                                                                                              

Post a Comment

0 Comments