Dr. Rahat Indori - Khaak Se Badhkar Koi Daulat Nahi Hoti - Flash Jokes - Latest shayari and funny jokes

Dr. Rahat Indori - Khaak Se Badhkar Koi Daulat Nahi Hoti

Dr. Rahat Indori - Khaak Se Badhkar Koi Daulat Nahi Hoti
Dr. Rahat Indori - Khaak Se Badhkar Koi Daulat Nahi Hoti

राहत इंदौरी के बारे में :-

राहत कुरैशी, जिसे बाद में राहत इंदौरी के नाम से जाना जाता है, का जन्म 1 जनवरी 1950 को इंदौर में रफतुल्लाह कुरैशी, कपड़ा मिल मजदूर और उनकी पत्नी मकबूल उन निसा बेगम के यहाँ हुआ था। वह उनका चौथा बच्चा था। 

उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा नूतन स्कूल इंदौर से की जहाँ से उन्होंने अपनी हायर सेकंडरी पूरी की। उन्होंने 1973 में इस्लामिया करीमिया कॉलेज, 

इंदौर से स्नातक की पढ़ाई पूरी की और 1975 में बरकतउल्ला विश्वविद्यालय भोपाल (मध्य प्रदेश) से उर्दू साहित्य में एमए पास किया। रहत को पीएच.डी. उर्दू साहित्य में उर्दू मुख्य मुशायरा शीर्षक से 1985 में मध्य प्रदेश के भोज विश्वविद्यालय से।

..........

---------------------------------------
Khaak se badhkar koi daulat 

nahi hoti

Choti moti baat pe hijrat 

nahi hoti

------

Pehle deep jalein to charche 

hote the

Ab shahar jalein to hairat 

nahi hoti

------

Roti ki golai naapa 

karta hai

Isiliye to ghar mein barkat 

nahi hoti

------

Koi kya de raay hamaare 

baare mein

Aise waiso ki to himmat 

nahi hoti
---------------------------------------

..........

---------------------------------------
ख़ाक से बढ़कर कोई दौलत नहीं होती

छोटी मोती बात पे हिजरत नहीं होती

------

पहले डीप जलें तो चर्चे होते थे

अब शहर जलें तो हैरत नहीं होती

------

रोटी की गोलाई नापा करता है

इसीलिए तो घर में बरकत नहीं होती

------

कोई क्या दे राय हमारे बारे में

ऐसे वैसे की तो हिम्मत नहीं होती
---------------------------------------

... Thank You ...



( Disclaimer: The Orignal Copyright Of this Content Is Belong to the Respective Writer )
                                                                                                                                                                                                              

Post a Comment

0 Comments