MERI ABROO KA TU PEHREDAR TO BAN | NEHA TRIPATHI SHARMA | POETRY - Flash Jokes - Latest shayari and funny jokes

MERI ABROO KA TU PEHREDAR TO BAN | NEHA TRIPATHI SHARMA | POETRY

मेरी आबरू का तू पहरेदार तो बन...



MERI ABROO KA TU PEHREDAR TO BAN | NEHA TRIPATHI SHARMA | POETRY
MERI ABROO KA TU PEHREDAR TO BAN | NEHA TRIPATHI SHARMA | POETRY


******

शायरी 


ज़िन्दगी के बही कहते में बस इतनी सी कमाई है

मेरी माँ सुकून से मुस्कुरायी है 


***


हमने दुनिया को रंग बदलते देखा है 

कभी किसी कंधे से गलती से धरखते दुपट्टे में झाकने वाले को 

अपनी बीवी के सर पे आँचल सँभालते देखा है

हमने दुनिया को रंग बदलते देखा है 


***


पाक़ीज़ा मोहब्बत है सरेआम न करना 

राजी न हो यार तोह बदनाम न करना 


पोएट्री


में खुद उतारदुंगी ये परदे लिबास के 

की तू खुद्दार बन ये परदे उतरने से पहले 

मेरी आबरू का तू पहरेदार तो बन


***


नहीं भक्ति मीरा सी न राधा सा त्याग चाहिए 

रुक्मणि सा नहीं मुझको सुहाग चाहिए 

जो वो हो मेरा तो गौरा सी अर्पित में राहू

शंकर सा अभिचान मुझे मेरा अर्धांग चाहिए 


***


गौरा सी अर्पित में राहू

शंकर सा अभिचान मुझे मेरा अर्धांग चाहिए


******






... Thank You ...







Disclaimer: The Orignal Copyright Of this Content Is Belong to the Respective Writer )
                                                                                                                                                                                                              

Post a Comment

0 Comments