TERI NAFRAT KEH RAHI HAI TUJHE PYAR HAI MUJHSE | GOONJ CHAND | POETRY - Flash Jokes - Latest shayari and funny jokes

TERI NAFRAT KEH RAHI HAI TUJHE PYAR HAI MUJHSE | GOONJ CHAND | POETRY

तेरी नफरत कह रही है तुझे प्यार है मुझसे

TERI NAFRAT KEH RAHI HAI TUJHE PYAR HAI MUJHSE | GOONJ CHAND | POETRY
तेरी नफरत कह रही है तुझे प्यार है मुझसे


मेरी बेपनाह मोहब्बत को आज भी इकरार है तुझसे

ओर तेरी नफरत कह रही हैं तुझे प्यार हैं मुझसे

-----

तुझे किस बात का गुरुर हैं जो जाता नहीं

तेरे बिना एक भी लम्हा मैंने काटा नहीं

तुझे हैं बेचैनी तो मेरा इकरार है तुझसे


-----
तूने मेरे प्यार को कभी समझा नहीं है

मेरे प्यार पर हावी तेरी गलतफहमिया रही हैं

-----

तेरे लिये मैं कुछ भी नहीं

पर मेरा पूरा जहां हैं तुझसे

तेरी नफरत कह रहीं हैं तुझे प्यार हैं मुझसे

-----

कोशिश की थी मैंने कि सुलझा सकूं

कि रिश्तो में पड़ी उन गाठो

-----

पर भुला न सकीं कि अपने गालों पर पड़े उन चाटो को

तू भूल गया शायद पर मेरा दिल भी कही बेजार है तुझसे


-----

बीत गए कितने साल यही सोचकर

कि तू कभी वापिस आयेगा

ओर तुझे हुई उन गलतफहमियों की माफी मांग मुझे 

मनाएगा पर तुझे आज भी हैं गलतफहमिया

-----

ओर मेरा हर विश्वास हैं तुझसे


-----



... Thank You ...






(Disclaimer: The Orignal Copyright Of this Content Is Belong to the Respective Writer)

                                                                  

Post a Comment

0 Comments