JAB HUM AJNABI HOTE HAI | GOONJ CHAND | POETRY - Flash Jokes - Latest shayari and funny jokes

JAB HUM AJNABI HOTE HAI | GOONJ CHAND | POETRY

Jab Hum Ajnabi Hote Hai By Goonj Chand



JAB HUM AJNABI HOTE HAI | GOONJ CHAND | POETRY
JAB HUM AJNABI HOTE HAI | GOONJ CHAND | POETRY



' कितनी अच्छी होती है ना जिंदगी '

"जब हम अजनबी होते हैं "

'क्यूकि तब हमारी जिंदगी के फासले '

"हमारे खुद के होते हैं "

-----



'ना ही कोई रोक ना ही कोई टोक होती है '

"बातैं भी तब हर रोज होती है "

'तब हम दूर होकर भी बहुत करीब होते हैं '

"कितनी अच्छी होती है ना जिंदगी "

"'जब हम अजनबी होते हैं "'

-----

'हर रिश्ते मे पूरी रेस्पेक्ट होती है '

"ओर केयर भी टू मच होती हैं "

'जिन्दगी मे कुछ फासले भी जरूरी होते हैं '

"कितनी अच्छी होती है ना जिंदगी "

'''जब हम अजनबी होते हैं '''

-----



'ना ही कोई शक की दीवार होती है '

''ना ही प्यार की रुसवाई सरेआम होती है ''

'एहसास के रिश्ते ना ही  कभी फरेबी होते हैं '

''कितनी अच्छी होती हैं ना जिन्दगी ''

'जब हम अजनबी होते है '

-----

''ना ही किसी को भी पाने की खुशी होती है ''

'ना ही किसी को भी खोने का गम होता है '

'''प्यार के नाम पर ना ही कोई सवाल जवाब होते हैं '''

''कितनी अच्छी होती है ना जिन्दगी ''

'जब हम अजनबी होते हैं '

-----



'ना ही सारी रात यू आखों में बरबाद होती है '

''ना ही होठों पर किसी के लिए फरियाद होती है ''

'ओर तब ना ही हम किसी उम्मीदों के शिकार होते हैं ''

'कितनी अच्छी होती है ना जिन्दगी '

''जब हम अजनबी होते हैं ''







(Disclaimer: The Orignal Copyright Of this Content Is Belong to the Respective Writer)
                                                                  

Post a Comment

0 Comments