EK GHAV PURANA BAKI HAI | GOONJ CHAND | POETRY - Flash Jokes - Latest shayari and funny jokes

EK GHAV PURANA BAKI HAI | GOONJ CHAND | POETRY

एक घाव पुराना बाकी हैं...

EK GHAV PURANA BAKI HAI | GOONJ CHAND | POETRY
EK GHAV PURANA BAKI HAI | GOONJ CHAND | POETRY


'एक घाव पुराना बाकी हैं '

''एक दर्द पुराना बाकी हैं ''

'तेरे दिए गए एक एक दर्द '


-----

'आ बैठ जरा हिसाब करे '

'कुछ साल पुराने याद करे '

''एक वक़्त ऐसा भी होता था ''



-----

''मेरी खुशी के खातिर बेमतलब सब से लड़ता था ''

'स्कूल से लेकर घर तक '

'अपनी बाइक से फॉलो करता था '

'क्या सच्चा था वो प्यार तेरा '


-----

'क्यू दिया था धोखा तूने मुझे '

'अभी इसका जबाब अभी भी बाकी हैं '


-----

'एक घाव पुराना बाकी है '

'एक दर्द पुराना बाकी हैं '


-----

'जब जख्म किसी को देता होगा '

'तब याद मेरी ही आती होगी '

'ओर मन ही मन खुद पर तुझ को थोड़ी शर्म तो आती होगी '

'खुद पर बीती तब तुझको मेरा दर्द समझ में आया हैं '



-----

'अब किस हक से तू कहता हैं कि फिर से वापिस आ जाओ '

'पर बीती बातें भूलकर तुम पहली जैसी हो जाओ '

'जो किया था तूने साथ मेरे वो सबको बताना बाकी '

'तू ही है गुनेहगार मेरा यह इल्ज़ाम लगाना बाकी है '


-----

'एक घाव पुराना बाकी है '

'एक दर्द पुराना बाकी हैं '

'तेरे दिए गए एक एक दर्द का हिसाब चुकाना बाकी हैं  '

-----



(Disclaimer: The Orignal Copyright Of this Content Is Belong to the Respective Writer)
                                                                  

Post a Comment

0 Comments